टिकरापारा सेवाकेन्द्र में मनाई गई ब्रह्माकुमारीज़ के मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष एवं इंदौर जोन के भूतपूर्व निदेशक ब्र.कु. ओमप्रकाष भाई जी की द्वितीय पुण्यतिथि।

पे्रस-विज्ञप्ति
जीवन की महानता है पवित्रता – ब्र.कु. मंजू दीदी
ब्र.कु. ओमप्रकाश भाई जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे – ब्र.कु. मंजू दीदी
टिकरापारा सेवाकेन्द्र में मनाई गई ब्रह्माकुमारीज़ के मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष एवं इंदौर जोन के भूतपूर्व निदेशक ब्र.कु. ओमप्रकाष भाई जी की द्वितीय पुण्यतिथि।
‘‘जीवन जीना एक बात है किन्तु त्याग, तपस्या, पवित्रता के साथ जीवन जीकर अनेकों का जीवन भी ऐसा श्रेष्ठ बनाना, ऐसी विभूतियां कोटों में कोई ही होती हैं। इनमें से एक विभूति ब्रह्माकुमारीज़ के छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेष, उड़ीसा, एवं राजस्थान क्षेत्र के निदेषक एवं मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष राजयोगी भ्राता ओमप्रकाश जी थे जिन्होंने अपने जीवनकाल में लाखों आत्माओं को परमात्म संदेष देकर उन्हें परमात्म प्रेम, सुख, शांति का अधिकारी बनाकर उनका संबंध परमात्मा से जोड़ा एवं उनके लिये प्रेरणास्रोत बने। आप इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हुए संस्था के संपर्क में आये एवं पढ़ाई पूरी करने के पश्चात् 22 वर्ष की उम्र में अपना पूरा जीवन समस्त मानव जाति के कल्याण के लिये परमात्मा को समर्पित कर दिया।’’
उक्त बातें ब्रह्माकुमारीज़ इंदौर जोन के भूतपूर्व निर्देषक आदरणीय भा्रता राजयोगी ब्र.कु. ओमप्रकाष ‘‘भाई जी‘‘ के द्वितीय पुण्यतिथि पर टिकरापारा सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्र.कु. मंजू दीदी जी ने ‘भाई जी’ के दिव्य जीवन पर प्रकाष डालते हुए कही। आपने भाईजी को अपने समर्पित जीवन के लिये प्रेरणाश्रोत बताते हुए कहा कि भाई जी के मार्गदर्षन में मेरे जैसी 800 बहनों ने भी अपना जीवन मानवता की सेवा में समर्पित कर दिया। भाई जी ने हमें जीवन जीने की, हर कार्य में परफेक्षन की, सभी को आगे बढ़ाने की, प्रषासन की, सबको प्यार बांटने की कला सिखायी। भाई जी बहुत ही रचनात्मक थे, आपने नये-नये तरीकों से सेवाओं का विस्तार किया एवं आपके कुशल नेतृत्व में 600 सेवाकेन्द्र बने एवं इंदौर में छोटी-छोटी कन्याओं में आध्यात्मिकता की अलख जगाने के लिये सन् 1983 में ‘‘षक्ति निकेतन’’ दिव्य जीवन कन्या छात्रावास का निर्माण किया।
अंत मे सेवाकेन्द्र की बहनों व साधकों ने भाई जी को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए एवं उनके बताए मार्ग पर चलने के लिए संकल्पित हुए।
ईश्वरीय सेवा में,
ब्र.कु. मंजू
प्रति,
भ्राता सम्पादक महोदय,
दैनिक………………………..
बिलासपुर (छ.ग.)

छ.ग. योग आयोग द्वारा आयोजित बिलासपुर व सरगुजा सम्भाग का मास्टर योग प्रषिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न, 65 विकासखण्डों से 500 प्रतिभागी हुए शामिल

छ.ग. योग आयोग द्वारा आयोजित बिलासपुर व सरगुजा सम्भाग का मास्टर योग प्रषिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न, 65 विकासखण्डों से 500 प्रतिभागी हुए शामिल
छ.ग. के उच्च शिक्षा मंत्री, गृहमंत्री एवं महिला-बाल विकास व समाज कल्याण मंत्री ने की शिरकत

CG Home Minister_Ram Sevak Paikra (1) Education Minister_Prem Prakash Pandey Mahila Baal Vikas Mantri_Ramshila Sahu Samaj Kalyan Vibhag Director Dr.Sanjay Alang Trainner (2) Trainner Yog Ayog Sadsya BK Manju Didiji Sambodhit Karte Huye (2) Yog Ayog Sadsya BK Manju Didiji Sambodhit Karte Huye (3)

छत्तीसगढ़ शासन के समाज कल्याण विभाग द्वारा स्थापित छ.ग. योग आयोग के द्वारा अमलेष्वर, दुर्ग के हार्टफूलनेस आश्रम में सात दिवसीय मास्टर योग प्रषिक्षण षिविर सम्पन्न हुआ। जिसमें बिलासपुर व सरगुजा सम्भाग के 65 विकासखण्डों के लगभग 500 प्रतिभागियों ने सफलतापूर्वक हिस्सा लिया। षिविर में आसन, प्राणायाम के अलावा ध्यान के विभिन्न तरीके भी सिखाये गए। इसमें छ.ग. योग आयोग के अध्यक्ष भ्राता संजय अग्रवाल जी ने आसन, प्राणायाम व घरेलु उपचार की गहराइयों को समझाया एवं व्यसनमुक्ति के लिए प्राणायाम, घरेलु उपचार और होम्योपैथी दवा का उपचार बताया। वहीं योग आयोग की सदस्या एवं बिलासपुर टिकरापारा सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी जी ने बौद्धिक सत्र में सात दिनों तक राजयोग के रहस्यों, स्लीप मैनेजमेन्ट, तनावमुक्त जीवनषैली, तन-मन-धन और संबंधों की स्वच्छता जैसे अन्य विषयों पर अपने अनुभवयुक्त व्याख्यान दिये।
इस अवसर पर योग को स्वयं के जीवन में उतारने वाले छ.ग. के उच्च षिक्षा एवं राजस्व मंत्री भ्राता प्रेमप्रकाष पाण्डेय जी ने योग को गांव-गांव तक पहुंचाने के लिए आयोजित इस मास्टर योग प्रषिक्षण की सराहना करते कहा कि आने वाले बजट सत्र में छ.ग. के सभी महाविद्यालयों में योग की कक्षा चलाने का प्रस्ताव रखा जायेगा। छ.ग. के गृहमंत्री भ्राता प्रेमप्रकाष पैकरा ने भी योग को जन-जन तक पहुंचाने के इस आंदोलन को प्रोत्साहित किया। साथ ही महिला एवं बाल विकास व समाज कल्याण मंत्री बहन श्रीमति रमषीला साहू ने भी सभी योग प्रषिक्षकों को अपने विकासखण्ड से संबंधित समस्त ग्राम पंचायतों के आंगनबाड़ी की मितानिन बहनों को भी योग का प्रषिक्षण प्रदान करने की सहमति प्रदान की। इससे वे बच्चों को भी योग की षिक्षा दे सकेंगी। पूरे प्रषिक्षण के दौरान छ.ग. के लोक आयुक्त भ्राता शंभूनाथ श्रीवास्तव, समाज कल्याण विभाग के संचालक डॉ. संजय अलंग, सतनाम समाज के गुरू संत बालदास जी भी शामिल हुए।